Wednesday, 2 October 2019

हिंदू नहीं जाएँगे देश से बाहर, अब कोई रामनवमी पर रोक लगाकर दिखाए: अमित शाह

बंगाल में घुसकर शाह ने ममता को दी चुनौती। 370 पर कॉन्ग्रेस को भी लिया निशाने पर। कहा- कॉन्ग्रेस समझती थी कि मामला ख़त्म हो गया लेकिन उनको मालूम नहीं है कि हम जनसंघ और भाजपा वाले जिसको पकड़ते हैं, उसको छोड़ते नहीं हैं।"
केंद्रीय गृह मंत्री ने एनआरसी पर हिन्दुओं को निश्चिन्त रहने की सलाह दी
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार (अक्टूबर 1, 2019) को कोलकाता में एक जनसभा को सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि एनआरसी से हिन्दू, सिख, जैन, बौद्ध और ईसाई शरणार्थियों को डरने की ज़रूरत नहीं है। एनआरसी से नागरिकता संशोधन विधेयक आएगा, जो यह सुनिश्चित करेगा कि इन लोगों को भारत की नागरिकता मिले। शाह ने लोकसभा चुनाव में 18 सीटें जिताने के लिए बंगाल की जनता का आभार भी व्यक्त किया।
भाजपा अध्यक्ष ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी को बंगाल का महान सबूत बताते हुए याद दिलाया कि किस तरह जम्मू-कश्मीर में शेख अब्दुल्ला की पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार किया, जिसके बाद संदेहास्पद स्थिति में उनकी मृत्यु हो गई। शाह ने कॉन्ग्रेस को चेतावनी देते हुए कहा, “कॉन्ग्रेस समझती थी कि मामला ख़त्म हो गया लेकिन उनको मालूम नहीं है कि हम जनसंघ और भाजपा वाले जिसको पकड़ते हैं, उसको छोड़ते नहीं हैं।” शाह ने लोगों को याद दिलाया कि आज़ादी के वक़्त जब पूरा का पूरा बंगाल पाकिस्तान के अंदर जाने वाला था, तब श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने बंग-भंग करा कर पश्चिम बंगाल की रचना की भी।
उन्होंने ममता बनर्जी के उस बयान का जवाब दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि एनआरसी लागू होने के बाद लाखों हिन्दू शरणार्थियों को बाहर जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि वह यहाँ विशेषकर हिन्दू शरणार्थियों को आश्वस्त करने आए हैं, क्योंकि उनकी संख्या ज्यादा है। शाह ने कहा कि किसी भी हिन्दू, जैन, बौद्ध, सिख और ईसाई शरणार्थी को देश छोड़ने को मजबूर नहीं होना पड़ेगा। उन्होंने यह भी याद दिलाया कि बंगाल में वामपंथियों के शासन के दौरान घुसपैठिए उन्हें वोट देते थे और तब विपक्षी नेता रहीं ममता बनर्जी उन्हें बाहर निकालने की बात करती थीं।
शाह ने कहा कि किसी भी शरणार्थी को जाने नहीं देंगे और किसी भी घुसपैठिए को रहने नहीं देंगे। उन्होंने ममता बनर्जी को चेतावनी देते हुए कहा कि वह बंगाल में दुर्गा पूजा में भाग लेने आए हैं लेकिन किसी की हिम्मत नहीं है कि दुर्गा पूजा को रोक ले क्योंकि अब पहले जैसे हालात नहीं हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा को 18 सीटें देने का कमाल है कि आज किसी की वसंत पंचमी, रामनवमी और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर प्रतिबन्ध लगाने की हिम्मत नहीं रही। उन्होंने भ्रष्टाचार पर बात करते हुए कहा:
“ममता बनर्जी बंगाल में आयुष्मान भारत योजना नहीं पहुँचने दे रही हैं। ग़रीबों का इलाज नहीं हो पा रहा है। मेरा ममता और तृणमूल को चुनौती है, आप जितना रोकना चाहो रोक लो, बंगाल में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हमें जीत मिलेगी। अगर उनकी लोकप्रियता देखना हो तो ‘हाउडी मोदी’ का वीडियो देख लीजिए, विदेशों में भी उनकी कितनी प्रसिद्धि है। उन्होंने आज तक एक भी दिन की छुट्टी नहीं ली है। हमारा कार्यकर्ता एक-एक शरणार्थी के घर जाकर समझाएगा कि उनके साथ कुछ बुरा नहीं होने वाला।”
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कोलकाता में एनआरसी को लेकर स्थिति स्पष्ट की
भाजपा अध्यक्ष ने इस दौरान कार्यकर्ताओं से कहा कि वे सभी एक-एक घुसपैठियों को निकाल बाहर करने का संकल्प दोहराएँ। बता दें कि बंगाल में दुर्गा पूजा को लेकर सीएम ममता अचानक से सक्रिय हो उठी हैं और पंडाल-पंडाल घूम कर उद्घाटन कर रही हैं। बंगाल के एक मंत्री का तो दावा है कि उन्हें 30,000 दुर्गा पूजा महोत्सवों से निमंत्रण आए हैं और उनमें से 75 का उद्घाटन वह ख़ुद अपने हाथों से करेंगी।
संदर्भ पढ़ें

No comments:

Post a Comment